Cricket IPL Crimes: ये है इंडियन ‘पाप’ लीग

विवेक अग्रवाल

मुंबई, 16 जून 2012

स्पॉट फिक्सिंग, मारपीट, गाली-गलौज, नोक-झोंक और छेड़खानी जैसे आरापों से पहले ही जूझ रही इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) पर 20 मई की रात एक नया विवाद जुड़ गया।

मुंबई के जुहू इलाके के होटल आॅकवुड प्रीमियर की छत पर चल रही हंगामेदार दावत में अचानक पुलिस के 50 अधिकारी जा धमके और संगीत बंद करा दिया। जब तक कोई कुछ समझता, एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यहां पार्टी में शामिल सारे लोग फिलहाल पुलिस हिरासत में हैं। रक्त-मूत्र परीक्षणों के बाद ही उन्हें घर जाने देंगे।

यह सुन कर वहां मौजूद लोगों का नशा हिरन हो गया। अचानक कुछ हाथ सक्रिय हुए। फर्श पर छोटी-छोटी पुड़िया गिरने लगीं। वे हाथ भले ही पुलिस की नजर में नहीं आए, लेकिन बाद में ये पुड़िया कोकीन, एक्सेटेसी, एमडीएमए जैसे नशे की निकलीं। चरस की भी पुड़िया मिली।

यहां छापेमारी करने वालों में मुंबई पुलिस के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त विश्वास नागरे पाटिल भी शामिल थे। बकौल पाटिल, ‘हमें जब पता चला कि यहां नशा बिकने वाला है, तो हमने फर्जी पार्टी-गोअर भेजा। उसने यहां नशीला पदार्थ बेचा और देखा कि उसका इस्तेमाल हो रहा है। इसके बाद हमने छापेमारी की।’ ज्ञात हो कि यह वही जांबाज पुलिस अधिकारी हैं, जिन्होंने होटल ताज में आतंकियों से सामना किया था।

दिग्गज चढ़े हत्थे : 

रेव पार्टी से पुलिस ने 150 ग्राम कोकीन और 100 ग्राम से अधिक अन्य नशीले पदार्थ जब्त किए। सौ लोगों को हिरासत में लिया। इनमें मॉडल, डिजाइनर और दो आईपीएल खिलाड़ी शामिल हैं।

रेव पार्टी से कुल 58 पुरुषों और 38 महिलाओं को हिरासत में लिया गया। इनमें आईपीएल के दो खिलाड़ी सहित विदेशी लड़कियां थीं।

अधिकारियों का कहना है कि हिरासत में लिए सभी लोगों का मेडिकल परीक्षण कराया गया है। नशा सेवन की पुष्टि पर आगे की कार्रवाई होगी। दावत में शामिल कुल छह आईपीएल खिलाड़ियों में से दो को हिरासत में लेकर उन्हें अस्पताल भेजा गया। रक्त और मूत्र के नमूने लेकर सुबह पुलिस ने उन्हें छोड़ा। दोनों खिलाड़ी पुणे वॉरियर्स के लिए खेलते हैं। इसमें एक हैं राहुल शर्मा। एसएमएस कर राहुल ने बताया कि वह जन्मदिन पार्टी में शामिल होने गए थे। यह बात और है पुलिस अधिकारी इसका खंडन करते हैं कि वहां कोई जन्मदिन पार्टी भी थी।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी व्यान पर्नेल भी पुलिस गिरफ्त में आए। व्यान ने नशा लेने से इंकार करते हुए कहा कि वह जब होटल से बाहर आ रहे थे, तो गेट पर उन्हें पुलिस ने रोक लिया था।

फिल्म-टीवी ऐक्टर अपूर्व अग्निहोत्री और उनकी पत्नी भी यहां पकड़ी गईं। रेव पार्टी से डीजे डिजाइनर हिप्पीइस व बॉलीवुड अभिनेत्री रिया सेन के पुरुष मित्र विशेष हांडा भी पकड़े गए। रेव पार्टी आयोजक विशेष हांडा और अमृत सागर को जुहू पुलिस ने अंधेरी कोर्ट में पेश किया। यहां अमृत सागर को जमानत मिल गई, जबकि विशेष हांडा को 25 मई तक पुलिस हिरासत में भेजा गया।

फेसबुक से नशा निमंत्रण : 

रेव पार्टियों के लिए निमंत्रण देने का मुख्य जरिया पहले ऑरकुट था, जबकि अब इसकी जगह फेसबुक ने ले ली है। एसएमएस से इसलिए बचा जाता है कि इसके सुबूत सीधे मिलते हैं। कर्जत की एक रेव पार्टी का नाम ‘शांति यात्रा’ रखा गया था। उसका प्रचार ऑरकुट से ही हुआ था।

2009 में पुणे की एक रेव पार्टी के लिए ऑरकुट से संपर्क किया गया था। इस पार्टी में छापेमारी कर पुलिस ने 284 को गिरफ्तार किया था। इस रेव पार्टी का फेसबुक पर निमंत्रण डीजे ‘डिजाइनर हिप्पीस.. मेकिंग पीपुल हैप्पी’ ने दीपेश शर्मा और जुहू निवासी आयोजक विषय हांडा ने भेजा था।

रोमियो और दीपेश ने 1999 में डिजाइनर हिप्पीज बनाया था। वे दुनिया में पार्टियों में डीजे के तौर पर पहचाने जाते रहे हैं। फिल्म ‘दबंग’ के गीत ‘तेरे मस्त-मस्त दो नैन’ के लिए 2010 में राष्ट्रीय राजीव गांधी अचीवर्स अवॉर्ड मिला था। इन्होंने फिल्म ‘हीरोज’ के सारे गीतों का रीमिक्स तैयार किया था।

निमंत्रण के मुताबिक, शाम चार बजे से 10 बजे तक पार्टी चलनी थी। टेबल रिजर्व करने की भी व्यवस्था थी। फेसबुक से करीब 2500 लोगों को निमत्रण भेजा गया था। इसे सिर्फ 73 लोगों ने स्वीकार किया, जबकि 18 ने कहा कि वे शायद ही पहुंचें। इससे पुलिस ने रेव आयोजक विषय हांडा को गिरफ्तार किया। वह तमाम क्लाइंट्स को फेसबुक के पर्सनल प्रोफाइल से बुलाता था। कूट संकेतों से पार्टी में आने वालों को बताया गया था कि पार्टी में कौन सा नशा परोसा जाएगा।

नशे की कीमत और ‘महाजाल’ : 

पुलिस सूत्रों के मुताबिक ऐसी रेव पार्टियों में शामिल होने के लिए 2 से 10 हजार रुपये तक खर्च होते हैं। इसमें आना-जाना और शराब के साथ खाना मुफ्त होता है। नशे की कीमत जेब के हिसाब से वसूली जाती है।

मैंड्रेक्स की एक सिंगल टेबलेट, जिसे सिंगल डेकर कहते हैं, 50 से 80 रुपये में, तो दो गोलियों की बनी डबल डेकर गोली 150 से 200 रुपये तक की होती है।

एक्सेटेसी की एक ग्राम कीमत के लिए चार हजार रुपये वसूले जाते हैं।

कोकीन आठ से 12 हजार रुपये प्रति ग्राम में मिलती है।

सैटरडे नाइट या वीकेंड पार्टी, टोमेटिना पार्टी, पायजामा पार्टी, रेव पार्टी, हुक्का पार्टी, कोक   पार्टी जैसे कई नामों से पहचानी जाने वाली इन पार्टियों में नशे का कारोबार खूब होता है। पब में युवाओं को नशा, यानी चरस, गांजा, स्मैक, ब्राउन शुगर, एमडीएमसी, एक्सेटेसी, कोकीन, एसिड, श्रूम्स (मशरूम), हशीश आसानी से उपलब्ध होते हैं।

यह काम करने वाले ड्रग पैडलर, यानी फुटकर विक्रेता लगातार युवाओं में संपर्क बनाते चलते हैं, ताकि उनके माल की खपत एक से दूसरे के जरिए बढ़ती जाए। पार्टियों के शौकीन युवाओं में भारी उत्साह देख नशा विक्रेताओं ने पब, होटलों और डिस्कोथेक्स को अपने अड्डे बना लिए हैं। यहां बाहर या अंदर ग्राहकों की तलाश में नशा विक्रेता पहले अपना दोस्त बनाते हैं, फिर नशे का चस्का लगाते हैं। ग्राहक बनाने के बाद जब वे अधिक मात्रा में इसकी मांग करते हैं और पैसे न होने पर उनसे अपना माल बिकवाते हैं।

मुंबई-पुणे बना नशा तस्करी का गढ़ : 

मुंबई में छापेमारी के बाद पूरे देश के रेव आयोजकों और बिरादरी में रेड अलर्ट जारी है। आसपास की तमाम पार्टियों के आयोजकों, ट्रांस म्यूजिक बजाने वाले डीजे और उनमें शामिल लोगों ने चुप्पी साध ली है। बदलती लाइफ स्टाइल ने मुंबई और पुणे शहरों को नशा तस्करी का गढ़ बना दिया है। धनकुबेरों के बेटों-बेटियों के लिए मौज-मजे के लिए रेव पार्टियां अड्डे बन चुके हैं। पार्टी के बारे में अपने गहरे मित्रों या ‘सर्किट’ के बाहर के लोगों को जरा भी भनक नहीं लगने देते। पब, फॉर्म हाउस व होटलों में रेव पार्टी के आयोजक युवाओं पर ही नजरें गड़ाए रहते हैं। ये थोड़े मजा के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार होते हैं। मुंबई की रेव पार्टियों में अपने साथ वे लड़कियां लेकर ही जाते हैं, लेकिन साथ न हो, तो भी कोई समस्या नहीं होती। कारण कि इस्राइल, ईरान, फ्रांस, अमेरिका, यूके की लड़कियां भी आसानी से वहां उपलब्ध होती हैं। इसके अलावा रूसी लड़कियों की भरमार हर जगह मिलती है।

मुंबई की रेव पार्टी में भी अधिकांश रूसी लड़कियां ही पकड़ी गई हैं। इनको वहां अपने साथ उस रात हमदम बनाने की कीमत 10 से 50 हजार रुपये तक है। उसी होटल में एक कमरा आसानी से मिल जाता है। 10 से 50 हजार के पैकेज में गर्म गोश्त परोसा जाता है।

ऐसे आयोजित होती हैं रेव पार्टियां : 

रेव पार्टियां महज एक धंधा नहीं है। यह कुछ करीबी दोस्तों के बीच आपस में धन जुटाकर भी हो जाती हैं। घरों में मॉडल, सेलिब्रिटी, धनकुबेरों, उद्यमियों एवं राजनेताओं के बिगड़ैल भी रेव पार्टियां आयोजित करते मिल जाते हैं। किसी खास नशा विक्रेता से पहले ही माल लाकर वे भर लेते हैं। शराब का कोटा भरते हैं। उसके बाद तेज संगीत व रंगीन रोशनी में मौज-मजे की रात शुरू होती है। ऐसी रेव पार्टियों तक अमूमन पुलिस की पहुंच हो ही नहीं पाती। एयर होस्टेस और मॉडल रेव पार्टियों की शान हैं। लड़कों के अनुपात में लड़कियों की संख्या में कमी का रोना हम भले रोएं, सच तो यह है कि रेव पार्टियों में लड़कियों की संख्या कभी कम नहीं होतीं। इसमें लड़कियां आमतौर पर मुफ्त में जाती हैं। कारण, उन्हें ले जाने वाले लड़के इन्हें नशे में धुत्त करने के बाद इसकी अच्छी-खासी कीमत वसूल लेते हैं। बिना नशे के लगातार पांच से आठ घंटे तक इतने तेज संगीत पर नाचना किसी के लिए संभव नहीं। कोई लड़का या लड़की लगातार नाचे, तो तय है कि वह एक्सेटेसी का डोज ले चुके हैं।

सब कुछ लूट लेता है…: 

भाजपा नेता स्व. प्रमोद महाजन के बेटे राहुल महाजन, फिल्म अभिनेता फरदीन खान जैसे सेलिब्रिटी भी इन रेव पार्टियों की गिरफ्त में आ चुके हैं।

एक बार मुंबई में शक्ती कपूर का बेटा भी पकड़ा जा चुका है। इसने अदालत के बाहर मीडिया पर हमला भी किया था।

ये रेव पार्टियां उन लड़कियों के लिए ‘अजीब जगह’ नहीं हैं, जिनके लिए लड़कों के साथ कमरों में जाना समस्या नहीं। उनके लिए भारी समस्या है, जिनके लिए किसी गैर के साथ किसी कमरे में अकेले बैठना भी दुश्वार है। बिना किसी रंग, स्वाद व गंध की रेप डेट ड्रग बड़ी कुख्यात है। इसकी शिकार होकर लड़कियां आसानी से दुष्कर्म की शिकार होती हैं। दूध, चाय, शीतल पेय, कॉफी, शराब, बीयर में ही नहीं, बल्कि पानी में भी इनकी मिलावट होती है। यह दवा किसी को पिला दें, तो उन्हें पता नहीं चलता। इसके असर में लड़कियों को दुष्कर्म के दौरान यही लगता है कि वे मजे कर रही हैं। नशा टूटता भी है, तो उन्हें पता तो चलता है, लेकिन याद नहीं होता कि उनसे दुष्कर्म करने वाला था कौन? इस नशे से कई ब्ल्यू फिल्में बन चुकी हैं। इनका इस्तेमाल बाद में ब्लैकमेल करने के लिए होता है।

मध्यमवर्ग में रेव का चलन : 

मध्यमवर्गीय युवाओं को रेव पार्टियां नशे की गर्त में धकेल रही हैं। अब इसमें बड़े घरों की बिगड़ैल ही नहीं, मध्यमवर्गीय परिवारों के लड़के-लड़कियां भी शामिल हो रहे हैं। ऐसे युवा इसके लिए चोरी और देह-व्यापार के जरिए भी पैसे कमाते हैं। जिन्हें इनका चस्का लगा, उन्हें इससे बाहर लाना बेहद मुश्किल है। कई बार युवा इसी चक्कर में परिवार से बगावत कर बैठते हैं। घरों से दूर रहने वाले छात्र/छात्राएं रेव पार्टियों की आसानी से शिकार हो जाते हैं।

रेव पार्टी 1960 में हिप्पियों ने गोवा में शुरू की थी। विदेशी गोवा के समुद्र तटों पर नशे में झूमते रहते थे। शराब पीते और पार्टी करते थे। तब की और आज की रेव पार्टियों में खासा फर्क  आ चुका है। गोवा में यह ‘गोवा-ट्रांस’ नाम से जानी   जाती है। यहां पूरी रात संगीत बजता था। अब उस पर प्रतिबंध है।

अब शराब, शबाब और नशे की देर रात की ये दावतें गोवा, पुणे, मुंबई, रत्नागिरी, रायगढ़ तक ही सीमित नहीं हैं। ये दिल्ली, एनसीआर होते हुए लखनऊ, कानपुर, रायपुर, इंदौर, ग्वालियर, बेंगलुरु, नागपुर, इंदौर, भोपाल जैसे मध्यमवर्गीय शहरों तक फैल चुकी हैं।

बॉलीवुड की सहभागिता : 

रेव पार्टी में कुछ चीयर लीडर्स के साथ बॉलीवुड के मशहूर ऐक्टर भी थे। फिल्म ‘परदेस’ में शाहरुख के साथ काम कर चुके अपूर्व अग्निहोत्री और उनकी पत्नी शिल्पा भी इसमें शामिल थीं। बकौल अपूर्व, वे अपनी पत्नी के साथ पार्टी में गए थे। वह रेव पार्टी नहीं, बल्कि सामान्य पार्टी थी। सेलिब्रिटी होने के कारण उन्हें निशाना बनाया गया। हम तो पार्टी में शामिल भी नहीं हुए थे, जबरिया बदनाम किया जा रहा है।

अभिनेत्री शिल्पा कहती हैं कि पुलिस जिस तरह बिना लेबल के रक्त-मूत्र के नमूने रख रही थी, उससे साफ है कि किसी के नाम पर कोई भी नमूना रखा जा सकता है। पुलिस ने उनके नमूने के साथ भी ऐसा ही किया। बकौल शिल्पा, कैसे पता लगे कि कहां, क्या होने वाला है? क्या इससे पार्टी करना व किसी से मिलना-जुलना छोड़ दें?

रेव पार्टियों में सांप का जहर : 

रेव पार्टियों के लिए सांप का जहर बतौर नशा इस्तेमाल होता है। सांप का जहर बेचने के मामले में मोईन और महमूद को पुलिस ने पकड़ा था। जहर रोडवेज की बस से मेरठ जा रहा था। उनसे पुलिस ने दोमुंहा सांप, अजगर और 400 मिली जहर जब्त किया था। यह जहर इंजेक्शन से देते थे। जहर चंडीगढ़ से आया था। पिछले महीने दिल्ली के विवेक विहार में भी सांप का जहर बरामद किया गया था।

दास्तान-ए-राहुल शर्मा : 

राहुल शर्मा का नाम आज भले ही आईपीएल को कलंकित करने के लिए लिया जाए, लेकिन उनका करियर एक खिलाड़ी की फिल्मी कहानी सरीखा है। रेव पार्टी में पकड़े जाने के बाद उन्हें लगा कि वे सब कुछ खोने वाले हैं। 6.4 फुट लंबे इस फिरकी गेंदबाज की कहानी बड़ी मार्मिक और साहस वाली है। हर क्रिकेटर की तरह उनका भी सपना टीम इंडिया में खेलने का था, लेकिन आईपीएल-3 के पहले एक सुबह वे जब सोकर उठे, तो पाया कि उन्हें लकवा हो चुका है। उनके चेहरे की मांसपेशियों ने काम करना बंद कर दिया था। यह तय था कि राहुल का करियर बनने के पहले ही खत्म होने वाला है। वे आंख नहीं खोल पा रहे थे। मुंह लटक चुका था। होंठ नहीं हिला पा रहे थे। साफ दिखना भी बंद हो गया। वे आज भी एक आंख पूरी तरह नहीं खोल पाते। उन्होंने हिम्मत से काम लिया और रणजी में खेलने की संभावनाओं को धूमिल नहीं होने दिया। घंटों चेहरे की कसरत और इलाज से वह फिर मैदान में उतरे। उन्हें पंजाब से रणजी में खेलने का मौका मिला, तो पूरी टीम ने उनका भरपूर साथ दिया।

एक इंटरव्यू में राहुल ने कहा था कि युवराज ने उनका बहुत हौसला बढ़ाया। कोच ने उन्हें बॉलिंग ऐक्शन में मदद की। अच्छे प्रदर्शन से राहुल ने आईपीएल की पुणे वॉरियर्स टीम में जगह बनाई। मुंबई इंडियंस के खिलाफ हारे मैच में भी सचिन से वाहवाही और ‘मैन आॅफ द मैच’ अवॉर्ड पाने में सफलता पाई। उन्होंने 20-20 फॉर्मेट में चार ओवर में मात्र सात रन देकर दो विकेट लिए हैं।

राहुल के मुताबिक, उनकी टीम पुणे मैच खत्म होने पर उसे 21 मई की सुबह घर लौटना था। पुणे से फ्लाइट नहीं थी। ऐसे में मुंबई से अमृतसर जाना था। इसी दौरान दक्षिण अफ्रीका के वेन पॉर्नेल का फोन आया। यह उनके करीबी दोस्त है। पॉर्नेल ने बताया कि उसकी महिला मित्र की बर्थ-डे पार्टी है, वहां चलेंगे। दोनों शाम सात बजे होटल ऑकवुड पहुंचे। यहां पॉर्नल ने कुछ खाने के साथ शीतल पेय मंगाया था।

राहुल का दावा है कि वे निर्दोष हैं। यदि जांच में वे दोषी निकलें, तो क्रिकेट खेलना छोड़ देंगे। वे सिर्फ वहां बर्थ-डे पार्टी में गए थे। उन्होंने बीयर तक नहीं पी। ड्रग्स लेना तो दूर है। राहुल ने कहा कि मेडिकल रिपोर्ट से साफ हो जाएगा कि वे निर्दाेष हैं। राहुल के पिता प्रदीप कुमार पंजाब पुलिस में इंस्पेक्टर हैं। फिलहाल जालंधर पीसीआर में तैनात हैं। उनका कहना है कि रात टीवी पर राहुल की खबर देखी, तो हैरान रह गए। राहुल तो अंडा भी नहीं खाता है, ऐसे में नशा करना तो दूर की बात है। वह खिलाड़ी है और खिलाड़ी का नशे से वास्ता नहीं होता।

कब,कहां हुई छापामारी?

कर्जत में 300 गिरफ्तार : 

पुलिस ने 27 जून, 2011 की देर रात रायगढ़ जिले के कर्जत में माउंट व्यू रिसॉर्ट की रेव पार्टी पर छापा मारा। यहां से रसूखदार घरों और फिल्मी परिवारों की 60 युवतियों समेत 300 लोगों को हिरासत में लिया गया। 10 नशा विक्रेता भी दबोचे गए। तीन करोड़ का नशीला पदार्थ बरामद हुआ। पार्टी में मुंबई के एंटी-नारकोटिक्स सेल इंस्पेक्टर अनिल जाधव भी थे।

बकौल खालापुर थाने के इंस्पेक्टर एस. पाटिल, इस रेव पार्टी में बॉलीवुड स्टार विनोद खन्ना के बेटे साक्षी खन्ना को भी गिरफ्तार किया था। साक्षी, विनोद खन्ना की दूसरी पत्नी कविता खन्ना के पुत्र हैं। तब उनकी उम्र 20 साल थी। वे लंदन से पढ़ाई कर चुके हैं। ‘रामायण’ धारावाहिक में भरत के बचपन की भूमिका की थी।

कर्जत की रेव पार्टी पर छापामारी के विरोध में शिवसेना के पदाधिकारियों ने खूब हाय-तोबा मचाई। कारण कि जिस होटल में रेव पार्टी थी, उसका मालिक शिवसेना की युवा सेना का कार्यकर्ता था। जब कांग्रेसियों को इसकी भनक लगी, तो वे  शिवसेना भवन पर प्रदर्शन करने जा पहुंचे। इससे तनाव पैदा हो गया था।

पुलिस ने होटल माउंट व्यू की रेव पार्टी के संबंध में होटल के सीओओ अपराजित मित्तल को मुंबई के अंधेरी से गिरफ्तार किया था। पार्टी में नशा आपूर्ति करते गिरफ्तार इंस्पेक्टर अनिल जाधव को निलंबित कर दिया गया था।

लोखंडवाला में गुजराती कारोबारी : 

27 जून, 2009 को मुंबई के लोखंडवाला में पुलिस ने रेव पार्टी पर छापेमारी की और 22 लोगों को दबोचा। इनमें गुजरात के दो व्यापारी, सात कॉल गर्ल, एक हाई प्रोफाइल मॉडल थी। पुलिस ने बड़ी मात्रा में विदेशी शराब, कंडोम के पैकेट और 40 हजार रुपये नकद बरामद किए थे।

वहीं 19 नबंवर, 2008 को रेव पार्टी में पकड़े गए 250 लड़के-लड़कियों में से 119 की मेडिकल रिपोर्ट में से 109 के नशा करने की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली थी। यहां 72 डिग्री ईस्ट पब की रेव पार्टी पर पुलिस ने छापेमारी कर 231 युवाओं को गिरफ्तार किया था। उनमें शक्ति कपूर का बेटा सिद्धांत भी था। आठ नशा विक्रेता भी यहां थे।

इतना ही नहीं, 4 अगस्त, 2006 को पुणे के मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट सिंबॉयसिस के 254 लड़कों और 235 लड़कियों की एक रेव पार्टी पर छापेमारी कर उन्हें हिरासत में लिया गया। ये पार्टी पुणे-सोलापुर हाईवे पर एक फॉर्महाउस में जारी थी। मुंबई के एक मुखबिर ने इसकी सूचना दी थी। इसमें कॉलेज प्रबंधन ने कार्रवाई और जांच की बात कही।

….
This News published in HUMVATAN on Thursday, 31 May 2012

++++

Drugs, Narcotics, Vivek Agrawal, नशा, विवेक अग्रवाल, मादक पदार्थ, ड्रग्स, नशीली दवाएं, मुंबई, भारत, Mumbai, India, Cocaine, कोकीन, आईपीएल, क्रिकेट, पुलिस, Police, IPL, Cricket,

++++

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market