एजाज लकड़वाला: कभी जिस बेटी ने जान बचाई, आज उसी ने जान फंसाई

विवेक अग्रवाल।

मुंबई, 11 फरवरी 2020।

यह तथ्य लोगों को नहीं पता है कि जिस बेटी सोनिया ने बैंकॉक में कभी अपने पिता एजाज लकड़ावाला की जान हमलावरों से बचाई थी, आज उसी बेटी के कारण मुंबई पुलिस के शिकंजे में वह फंसा है।

अंडरवर्ल्ड में यह बात आम है कि एजाज को बेटी सोनिया के जरिए दबाव डाल कर ही मुंबई पुलिस ने गिरफ्तारी तय करवाई है।

एजाज पर बैंकॉक में हमला

एजाज पत्नी उमा और लगभग छह साल की बेटी सोनिया के साथ बैंकॉक के एक मॉल में बने होटल के रात को खाना खाने गया था।

उसे जरा भनक न थी कि छोटा शकील के हत्यारे दस्ते ने उसके लिए यहां जाल बिछा रखा है। वे कई दिनों से उसका पीछा कर रहे हैं। उसके बारे में तमाम जानकारियां हासिल कर चुके हैं।

जब होटल से निकल कर एजाज मॉल की स्टिल्ट पार्किंग में कार तक पहुंचा, तो हमलावर उसके पीछे आ पहुंचे। उन्हें यह नहीं पता था कि एजाज के साथ पत्नी-बेटी भी हैं।

एजाज के सिर पर सवार काल

एजाज कार के पास तक जा पहुंचा। उसने जब कार का दरवाजा खोलने की कोशिश की, तभी हमलावर उसके सिर पर आ सवार हुए। एक हमलावर ने तुरंत उस पर पिस्तौल तान दी।

एजाज ने बचने के लिए उससे हाथापाई की। पहला हमलावर तो गोली नहीं चला पाया लेकिन पीछे से दूसरे हमलावर उस पर गोली दाग दी। यह गोली एजाज के पेट में लगी। इसके बावजूद एजाज ने हमलावर को नहीं छोड़ा।

गोली की आवाज स्टिल्ट पार्किंग में गूंज गई। अब तक हमलावरों ने दो गोलियां और चलाईं।

एजाज जमीन पर

इन गोलियों की आवाज सुनते ही एजाज की पत्नी उमा और बेटी सोनिया भागते हुए कार के पास आए। अब तक एजाज जमीन पर गिर चुका था। एजाज के सिर पर यमदूत बने तीन हमलावर खड़े थे। ये हमलावर उमा और सोनिया को देख कर सकपका गए। उन्हें पता न था कि एजाज का परिवार भी मौके पर है।

एक हमलावर ने आगे बढ़ कर एजाज पर तीन गोलियां और चलाईं। एक गोली पेट, दूसरी गोली गला और तीसरी गोली सिर में पैबस्त हुई।

एजाज को बचाने आई सोनिया

पिता पर गोलियां चलती देख कर छोटी सी सोनिया चीखते-रोते एजाज से जा चिपकी। हमलावरों के सामने ऊहापोह की स्थिति बन गई। वे एजाज को तब तक गोलियां मारना चाहते थे, जब तक कि मर न जाता लेकिन सोनिया के उस लेटे होने के कारण वे मजबूर हो गए। वे गोली चलाना भूल गए।

हमलावरों को पता ता कि अब एक भी गोली चली, तो सोनिया को लग सकती है। एजाज अभी भी होश में था।

खून से लथपथ एजाज ने हमलावरों को दयनीय निगाहों से देखते हुए हाथ जोड़ दिए। हमलावरों ने उस पर तानी पिस्तौलें जेब में रख लीं।

हमलावर भागे

घायल एजाज को उसी हालत में छोड़ कर हमलावर भाग निकले।

एजाज की पत्नी ने तुरंत मदद बुलाई। उसे लेकर अस्पताल पहुंची। बैंकॉक पुलिस ने तुरंत तलाशी अभियान चलाया और दो हमलावरों को धर दबोचा। तीसरा हमलावर कौन था, यह किसी को पता नहीं चल सका।

महीनों तक अस्पताल में इलाज के बाद एजाज इस लायक हुआ कि बाहर निकल सके। यह बात और है कि 6 गोलियां लगने और बहुत सारा खून बहने के कारण एजाज काफी कमजोर हो चुका था।

एजाज हुआ गायब

पूरी तरह ठीक होने के बाद एजाज ने सबसे पहला काम यही किया कि बैंकॉक से बोरिया-बिस्तर समेट कर गायब हो गया।

छोटी सी सोनिया ने जिस पिता की जान कभी बचाई थी, आज उसी बेटी के चलते वही पिता पुलिस के शिकंजे में आ फंसा।

#Mumbai #Vivek_Agrawal #Police #Ejaz_Lakdawala #Nepal #Canada #India #Mafia #Underworld #Don #Gangster #Dawood_Ibrahim #Chota_Rajan #gang #Soniya #Shifa_Shaikh #Manish_Advani #Rekha_Advani #passport #AEC #Red_Corner_Notice #Prasad_Pujari #Chaina #Patna #Interpol #मुंबई #विवेक_अग्रवाल #एजाज_लकड़ावाला #माफिया #अंडरवर्ल्ड #गिरोह #दाऊद_इब्राहिम #छोटा_राजन #सोनिया #शिफा #इंटरपोल

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market