पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों पर खुला सट्टा

  • इस बार काफी देर से खुला सट्टा
  • नोटबंदी की मार से हैरान सट्टाबाजार
  • महज 30 हजार करोड़ का आंकड़ा होगा पार
  • अनुमान से काफी कम रकम का लगेगा सट्टा
  • यूपी में होगा भाजपा – सपा में असली घमासान
  • दो में भाजपा, तो एक में इंका को जिता रहे हैं बुकी

विवेक अग्रवाल।

मुंबई, 02 फरवरी 2017।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों पर देर से ही सही बुकियों ने संगठित रूप से सट्टा खोल ही दिया। बुकियों का कहना था कि इस साल सट्टे में किसी की रुचि ही नहीं थी। धंधा काफी मंदा है क्योंकि नोटबंदी के कारण बाजार में नदकी का गहरा अभाव बना हुआ है। ये हालात अभी छह माह तक बने रहेंगे, लिहाजा सट्टे में भी लोग पैसा कम ही लगा रहे हैं। इसके कारण आगे चल कर वलण (रुपयों के लेन-देन में भी परेशानी हो सकती है।

एक बुकि के मुताबिक यह मुंबई सट्टे के इतिहास में पहला मौका है, जब जब चुनाव की तारीख इतनी करीब आ गई हो और सट्टा खुला हो। इसके लिए उसने बाजार में छाई मंदी को दोष दिया। उसने कहा कि मणिपुर के चुनावों पर सट्टा नहीं खोला है क्योंकि इसे लेकर देश के किसी भी हिस्से में कोई रुचि नहीं है।

उत्तरप्रदेश में भाजपा

इस सटोरिए का कहना है कि उत्तरप्रदेश में तो किसी की सरकार बनती नहीं दिख रही है। यहां भाजपा और सपा के बीच असली रस्साकशी होगी। सट्टेबाजार के मुताबिक यूपी में इन राजनीतिक दलों के बीच फोटो फिनिश होगी। किसी भी दल को साफ बहुमत मिल पाएगा, ऐसा नहीं लग रहा है।

बुकियों का मानना है कि समाजवादी पार्टी के शासनकाल में जो भी हुआ है, उससे लोग खुश हैं, इसके चलते बदलाव आएगा, यह तय नहीं कहा जा सकता है। नोटबंदी का असर भी भाजपा पर दिख सकता है। भाजपा ने केंद्र में जो कुछ किया है, उससे भी लोग खुश नहीं हैं, जिसके कारण इस राज्य में भाजपा पर असर दिख सकता है। बसपा को लेकर सटोरियों में कोई उत्साह नहीं दिखाया जा रहा है। राजनीतिक पंडित यही कह रहे हैं कि बसपा ही इस चुनाव में असली खिलाड़ी है, जो खेल का तख्तापलट करने की ताकत रखती है।

उप्र में कुल 403 सीट हैं। सट्टे के जो भाव खुले हैं, उनसे तो यह साफ दिख रहा है कि 140 से 160 सीटों पर सपा की बढ़ता है लेकिन 170 सीटों पर आकर दोनों के भाव समान हो जाते हैं।

उत्तरप्रदेश में पार्टियों के भाव

सीटों पर जीत भाजपा सपा बसपा इंका
15 26 पैसे
20 58 पैसे
25 1.10 रुपए
30 40 पैसे 2.25 रुपए
40 75 पैसे
50 1.35 रुपए
60 3 रुपए
130 28 पैसे 29 पैसे
140 55 पैसे 52 पैसे
150 1 रुपए 90 पैसे
160 2.5 रुपए 2.25 रुपए
170 4 रुपए 4 रुपए

उत्तराखंड की उठापटक

इस छोटे से पर्वतीय राज्य में भाजपा के बारे में सट्टाबाजार चुनाव में पर्रिवर्तन पैदा करने वाला मान रहा है। यहां पर इस बार इंका के हाथों से सत्ता जाने की संभावना सटोरियों को दिख रही है। उन्हें यहां भाजपा के काबिज होने को लेकर संदेह नहीं हैं। कुल 70 सीटों वाली इस विधानसभा के लिए भाजपा और इंका में ही सीधी भिड़ंत है।

उत्तराखंड में पार्टियों के भाव

सीटों पर जीत भाजपा इंका
10 32 पैसे
15 62 पैसे
20 1.35 रुपए
25 4 रुपए
30 27 पैसे
35 68 पैसे
40 1.15 रुपए
45 2.50 रुपए

गोवा में गदर

इस छोटे से तटीय राज्य में न जाने क्यों सट्टाबाजार ने भाजपा के आसार दिखाए हैं। बुकियों का कहना है कि यहां पर्रिवर्तन आना तय है। यहां न तो आप का फैक्टर चलेगा, न ही संघ के बागियों का खेल बन सकेगा। वोट कटुआ होने की स्थिति भी नहीं बनती दिख रही है। उन्हें गोवा में भाजपा का पलड़ा भारी दिख रही है। कुल 40 सीटों वाली इस छोटी सी विधानसभा के लिए भाजपा व इंका में भिड़ंत होती दिख रही है।

गोवा में पार्टियों के भाव

सीटों पर जीत भाजपा इंका
10 42 पैसे
15 36 पैसे 1.10
20 62 पैसे 3 रुपए
25 1.35 रुपए 6 रुपए
30 3.50 रुपए

पंजाब में परिवर्तन

एक सट्टा बुकि के मुताबिक पंजाब में असली मुद्दा अब भ्रष्टाचार और नशा हो गया है। वहां निश्चित तौर पर सत्ता परिवर्तन की लहर चल रही है। भाजपा और अकाली गठबंधन की सरकरा से लोग बेहद खफा हैं। इस राज्य में कांग्रेस का खेल चल सकता है और वह पूर्ण बहुमत से तो नहीं लेकिन निर्दलियों या आप की मदद से सरकार बना सकती है।

कुल 117 सीटों वाले इस राज्य में कांग्रेस और आप के बीच सीधी भिड़ंत दिख रही है। सट्टे के भावों से साफ दिख रहा है कि आप पार्टी ने सभी राजनीतिक दलों को अच्छी चुनौती पेश की है। बुकियों का मानना है कि यदि नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब में आप पार्टी के मुख्यमंत्री का चेहरा बन कर सामने आते तो उनकी संभावना अधिक प्रबल होती। अब चूंकी वे इंका के खेमे में जा पहुंचे हैं तो रुख भी बदला है।

पंजाब में पार्टियों के भाव

सीटों पर जीत इंका आप भाजपा
5 26 पैसे
10 68 पैसे
15 1.60 रुपए
20 2.25 रुपए
35 33 पैसे
40 28 पैसे 75 पैसे
45 76 पैसे 1.60
50 1.40 रुपए 4 रुपए
55 2 रुपए

मनपा चुनावों पर सट्टा

पंजाब में जब चुनाव खत्म हो जाएंगे, उसके बाद ही मुंबई महानगरपालिका के चुनावों के लिए सट्टे के भाव भी खोले जाएंगे। मनपा चुनावों को लेकर सट्टे में खासा बड़ा खेल होने की संभावना है। मुंबई मनपा के चुनावों में जिस तरह भाजपा और शिवसेना आमने-सामने तलवारें लेकर भीड़ गए हैं, उससे चुनाव रोचक हो गया है। सट्टे में भी इसका असर दिखेगा।

30 हजार करोड़ के पार

एक बुकी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि ये सभी भाव एक फरवरी की सुबह मुंबई में ही खोले हैं और अब महज सप्ताह भर का ही खेल रह गया है। चुनाव के नतीजे आने तक रेट चलेंगे और खेल जारी रहेगा। इसका कहना है कि आखिरी वक्त तक भावों में काफी उथल-पुथल होगी और बदलाव आते रहेंगे। उसके मुताबिक चुनावों के दौरान होने वाली उठापटक का असर सट्टे के भावों पर भी पड़ता है।

यह माना जा रहा है कि 30 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कारोबार होने की संभावना है। वह बताता है कि पंटरों में हालांकी उत्साह जरूर था लेकिन हाथ तंग होने के कारण और नकद की कमी के कारण बुकियों में उत्साह कम था।

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market