नकली नोट 3 : बांग्लादेश से आ रही पाक प्रायोजित नकली भारतीय करंसी

पाक का नापाक इरादा : नकली करंसी बनी हथियार – भाग 3

विवेक अग्रवाल।

मुंबई, 1 मार्च 2017।

जांच अधिकारियों के मुताबिक नकली करंसी की खेप बांग्लादेश सीमा पार कर शाह लाया था। इस बरामदगी व गिरफ्तारी से यह साबित हो गया कि बांग्लादेश से ही यह नकली करंसी आ रही है। मालदा जिले में ही चूंकी यह करंसी की खेप बरामद हुई है, इससे भी साफ हो गया है कि आईएसआई एजेंटों ने मिलकर बांग्लादेश के जरिए भारत में नकली करंसी भेजने का अभियान चला रखा है। शाह से पूछताछ के दौरान पता चला कि शाह नकली करंसी लेने खुद बांग्लादेश गया था। कांटेदार बाड़ पार कर वह बांग्लादेश से यह करंसी लाया था। नेशनल हाईवे नंबर 34 पर नदिया जिले के वैष्णव नगर के पास गांव तक आ पहुंचा था।

इन बरामदगी हो और गिरफ्तारियों से एक बात साबित हो गई है कि पश्चिम बंगाल का जिला मालदा नकली करंसी लाने-लेजाने या तस्करी का गढ़ बन चुका है।

इसके पहले भी भारत में बड़े पैमाने पर 500 और 1000 के नकली करंसी का कारोबार मालदा जिले से ही बड़े पैमाने पर चल रहा था।

नकली नोटों के तस्कर रहमान ने पूछताछ में बताया कि पाकिस्तान में 2000 और 500 के नोटों की नकली नोटों की अगली खेप भी तैयार है। वह भी बांग्लादेश के जरिए ही भारत भेजी जाएगी। हो सकता है कि अगली खेल पिछली नकली करंसी की खेप के मुकाबले बेहतर हो।

पुलिस अफसरान यह भी पता कर कर रहे हैं कि शाह के खिलाफ आपराधिक मामले कहां-कहां दर्ज हैं। क्या वह पहले भी नकली करंसी का कारोबार करते हुए पकड़ा गया है। यदि उसकी आपराधिक पृष्ठभूमि निकलती है तो उसके साथियों को भी संदेह के दायरे में रखते हुए पूछताछ के लिए हिरासत में लेने की बात पुलिस अधिकारी कर रहे हैं।

बीएसएफ सूत्रों के मुताबिक रविवार को ही शाह नदिया से आया था। पिछली रात ही उसने वैष्णवनगर थाना इलाके के चरीअनंतपुर में मतीउर रहमान उर्फ मती से नकली नोट हासिल किए थे।

बीएसएफ अधिकारियों के मुताबिक उन्हें सूचना मिली थी कि बांग्लादेश के शिवगंज इलाके में हाबिल शेख नकली करंसी का कारोबार कर रहा है। उसने भारतीय सीमा में बड़े पैमाने पर अपने एजंट बना लिए हैं। उनमें से एक शाह है।

इसके पहले भी बीएसएफ ने पश्चिम बंगाल में मालदा जिले में 2000 रुपए के 103 नकली नोट जब्त किए थे। अधिकारियों के मुताबिक बीएसएफ के दस्ते ने चुरियंतपुर इलाके में आम बागान में देर रात 2000 रुपए के 100 नकली नोट का एक पैकेट पाया। बीएसएफ जवानों ने इस बंडल पर निगरानी रखी। यह बंडल उठाने आए तस्करों को पकड़ना चाहा लेकिन लेकिन वे अंधेरे में भाग निकले। अधिकारियों का कहना है कि यह बंडल बांग्लादेश सीमा पार से तस्करों ने बागान में फेंका था। उस बंडल में नई नकली करंसी बड़ी सफाई से प्लास्टिक की थैलियों में पैक कि हुई थी।

अधिकारियों का कहना है कि जब बागान में बंडल उठाने के लिए लोग आ रहे थे तब उन्हें पकड़ने की जो कोशिश की थी उस दौरान एक बंडल लेकर भागने में वे तस्कर सफल रहे अधिकारियों का मानना है कि जो बंडल लेकर तस्कर भागे, उसमें भी नकली करंसी हो सकती है।

 

बीएसएफ दल बांग्लादेश में

नई दिल्ली में सरकार के कहने पर बांग्लादेश सीमा पर लगातार पकड़े जा रहे जाली नोटों व तस्करी की घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए अधिक कड़ी सुरक्षा व्यवस्था करने तथा अन्य उपायों पर बातचीत के लिए बीएसएफ महानिदेशक के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल बांग्लादेश जाकर वहां के वरिष्ठ अधिकारियों से मिल चुका है। दोनों देशों की सीमा नकली करंसी व अन्य साजोसामान की तस्करी का मुख्य केंद्र बन चुकी है।

18 फरवरी 2017 को इस प्रतिनिधिमंडल ने बांग्ला अधिकारियों को एक रपट भी सौंपी, जिसमें नकली करंसी की तस्करी और कारोबार संबधी तमाम जानकारियां दी हैं। इस रपट के मुताबिक बीएसएफ के खुफिया विभाग का दावा है कि नकली करंसी बांग्लादेश में ही छापी जा रही है।

अंक 4 में पढ़ें :

पाक जालसाजों ने तोड़ लिए 17 सुरक्षा फीचर में से 11

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market