कोरोना वायरस का डर नहीं सट्टा बाजार को: सवा लाख करोड़ का सट्टा लगेगा आईपीएल 2020 पर

विवेक अग्रवाल
मुंबई, 29 सितंबर 2020।
नोटबंदी हो या करोना वाइरस काल में घरबंदी, एक बात साबित हो गई है कि क्रिकेट सटोरियों पर कोई बंदी काम नहीं करती। खाड़ी देशों में चल रहा आईपीएल का नया सीजन सटोरियों का नया महोत्सव बन कर सामने आया है।
कुल 56 मैच पर लगभग सवा लाख से डेढ़ लाख करोड़ तक का सट्टा लगने की उम्मीद इस बार सट्टा बाजार कर रहा है।

डी-कंपनी की डेन में
सट्टाबाजार के महारथी मानते हैं कि शारजाह, अबूधाबी और दुबई में आईपीएल मैच हो जरूर रहे हैं लेकिन इस बार सट्टेबाजी में उलटफेर बड़े पैमाने पर होंगे।
इसका कारण यह बताया जा रहा है कि तीनों देश डी-कंपनी के अड्डे हैं। यहां आज भी दाऊद इब्राहिम और उसके गिरोह के सदस्यों की तूती बोलती है।
भारतीय बुकियों के लिए बिना डी-कंपनी की सरपरस्ती हासिल किए, इन देशों में काम करना असंभव है।
शारजाह तो मैच फिक्सिंग के लिए पहले ही बदनाम हो चुका है। लंबे अरसे बाद शारजाह में क्रिकेट मैच हो रहे हैं।
सब जानते हैं कि दाऊद इब्राहिम ने इस देश में सटोरियों से मैच फिक्स करवाए थे। इसके जरिए उसने सैंकड़ों करोड़ रुपए कमाए हैं।

हर गेंद पर सट्टा
एक बुकी का कहना है कि कप के भाव न केवल हर दिन बदलेंगे बल्कि हर ओवर और गेंद के हिसाब से भी बदलते रहेंगे।
इस बुकि के मुताबिक सेशन के भी सौदे हो रहे हैं। सेशन में 4 ओवर, 6 ओवर, 10 ओवर और 20 ओवर के सौदे हो रहे हैं। 20 ओवर के सौदे को लंबी पारी कहा जाता है। एडवांस और रनिंग दोनों तरह के सौदे किए जा रहे हैं।

हर मैच पर 1,500 करोड़
इस बुकी का कहना है कि हर मैच पर लगभग 1,500 से 2,000 करोड़ रुपए तक का टर्नओवर होगा।
सेमी फाइनल के हर मैच पर 3,000 करोड़ रुपए और फाइनल पर लगभग 6,000 करोड रुपए के दांव पंटर लगाएंगे।
इस तरह कुल मिला कर लगभग सवा लाख करोड़ की रकम अगले दो महीनों में सट्टेबाजी की भेंट चढ़ेगी।
पहले 25 मैच में स्टेडियम के अंदर दर्शकों का प्रवेश वर्जित रखा गया है। सारे मैच टीवी पर ही दर्शक देखेंगे। इसके बाद के मैच सीमित संख्या में दर्शकों के लिए खोले जाएंगे। इसका लेकिन सट्टेबाजी पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

बुकी पहुंचे दुबई
पता चला है कि तमाम बड़े बुकी अपनी-अपनी टीम के साथ दुबई जा पहुंचे हैं। उन्होंने फर्जी सेल फोन एक्सचेंज के जरिए सट्टेबाजी का पूरा इंतजाम कर लिया है।

ऑनलाईन चलेगा सारा खेल
घाटकोपर के एक बुकी का कहना है कि सारा कामकाज अब बटन (ऑनलाइन) पर हो गया है। इसके बाबजूद पांच सौ करोड़ रुपए से ऊपर की बुक चलाने वाले बड़े बुकी आज भी टेलीफोन के जरिए बुकिंग करना बेहतर समझते हैं क्योंकि उनके पास बड़े कटिंग करने वाले बुकी होते हैं, तो दूसरी तरफ फिल्मी दुनिया, कारोबारी और राजनीति से जुड़े लोग भी हैं, जो सीधे उनके पास सट्टा लगाते हैं। उनके लिए आज भी लाइन चालू रखी गई है।
एक बुकी के मुताबिक ऑनलाइन होने के कारण मैच खत्म होते ही तमाम जानकारियां सामने आ जाती हैं। पंटर जीत गया तो जीत की रकम से दो फ़ीसदी सर्विस चार्ज काटने के बाद पूरा पैसा तुरंत पंटर के खाते में जमा हो जाता है।
ऑनलाइन सट्टेबाजी होने के कारण बुकियों के मन से पुलिस का डर पूरी तरह खत्म हो चुका है।

बेटफेयर में बांबे बुकी
बड़े बुकियों ने लंदन की सरकारी मान्यता प्राप्त सट्टेबाजी की कंपनी बेटफेयर की वेबसाइट से सीधे अपने सॉफ्टवेयर जुड़वा लिए हैं।
बिल्कुल बेटफेयर जैसी डुप्लीकेट वेबसाइट और एप्लीकेशन बुकि बनवाते हैं। उनकी वेबसाइट और एप्लीकेशन पर बेटफेयर के भाव हर वक्त सीधे दिखने लगते हैं। सौदे भी सीधे बेटफेयर की वेबसाइट पर ही होते हैं लेकिन भारतीय वेबसाईट और एप्स पर रकम रुपयों में लगती है।
भारत के बड़े बुकी विदेशी बैंक खातों और क्रेडिट कार्ड के जरिए बेटफेयर में अपने अकाउंट रखते हैं, जिससे सीधे बेटफेयर पर कटिंग कर पाते हैं।
एक बुकी का कहना है कि बेटफेयर जैसी नकली वेबसाइट और एप्लीकेशन बनाने में बड़े बुकिंग लाखों खर्च करते हैं।
इन वेबसाइट और एप्लीकेशन के सर्वर भारत में नहीं रखे जाते हैं। चीन, हांगकांग, सिंगापुर के सर्वर सटोरियों की पहली पसंद हैं।

सट्टे का सर्विस चार्ज
यह बुकी बताता है कि बुकी के भाव में दो से तीन पैसे का फर्क आता है जबकि पंटर का एक पैसा कम भाव होता है। बुकमेकर और पंटर के भावों में हमेशा फर्क बना रहता है।
इस बुकी के मुताबिक ऑनलाइन कटिंग करने वाले छोटे बुकियों को दो फ़ीसदी सर्विस चार्ज में छूट मिलती है। इन्हें अलग लॉग-इन आईडी मिलती है जो नो-लिमिट होती है।
वह बताता है कि यदि कोई कहता है कि सौ लिखो, तो इसका मतलब होता है एक करोड़ रुपए का दांव उसने लगाया है। 2 से 3 हजार यानी 200 से 300 करोड़ रुपए तक के सौदे छोटे बुकि बड़े बूकियों के पास आसानी से करते हैं।
छोटे बुकियों और पंटरों के लिए हर सोमवार को वलण (लेन-देन) किया जाता है। बड़े बुकियों का अगले ही दिन वलण हो जाता है।

सट्टे में सलाह
अब तो बुकी भी शेयर मार्केट की तरह से टिप्स देने लगे हैं। एक बुकि का कहना है कि पंटर हमेशा हल्की चीज खाएंगे, तो ही उन्हें फायदा होगा। जहां बुक बन सकती है, वहां पंटरों को भी बुक बनानी चाहिए।
उसने कहा कि ऑस्ट्रेलिया सीरीज में 2 से 5 पैसे की आइटम भी उड़ गई थीं, जिसके कारण पंटरों को अब तो हल्की से हल्की आइटम ही खानी चाहिए।

कप के भाव
आईपीएल 2020 में कौन सिरमौर बनेगा और कप जीतेगा, उसके लिए जब मैच शुरू हुए थे, उसके 2 दिन पहले तक मुंबई इंडियन 4 रुपए 30 पैसे के भाव के साथ हॉट फेवरेट बना हुआ था। चेन्नई सुपर किंग का रेट 5.80 रुपए था। अन्य टीमों के भाव कुछ इस तरह खुले थे। कोलकाता नाइट राइडर्स 7.80 रुपए, दिल्ली कैपिटल्स 6.80 रुपए, सनराइजर्स हैदराबाद 5.80 रुपए, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु 6 रुपए, किंग्स इलेवन पंजाब 10 रुपए और राजस्थान रॉयल्स 11 रुपए।

ताजा भाव
यह भाव 28 सितंबर 2020 को बदल कर मुंबई इंडियन के लिए 3.80 रुपए, चेन्नई सुपर किंग के लिए 8.40 रुपए, कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए 7.20, रुपए दिल्ली कैपिटल्स के लिए 4.90 रुपए, सनराइजर्स हैदराबाद के लिए 14 रुपए, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के लिए 6.80 रुपए, किंग्स इलेवन पंजाब के लिए 12 रुपए और राजस्थान रॉयल्स के लिए 5.80 रुपए हो गया है।

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market