राक्षस: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

वीरान हवेली की दो महीने में शूटिंग पूरी हो गई। अगले छह महीनों में एडिटिंग भी पूरी हो गई। फिल्म

Read more

डंक: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

हाईवे पर पहुंचने के बाद संजय ने मुस्कुरा कर आगे बैठे टोनी पर नजर डाली, “क्या हाल है रौनक भाई…

Read more

रात का राजा: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

रज्जू भैया से आज फिर राजा भाई की बातें चल रही है। मुद्दा है वही कि कौन चुनाव जीतेगा –

Read more

लॉज की यारी…: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

देव कुमार अब डायरेक्टर हो गया। रहा वही मीठा और चीठा। सारे जहान को सेट पर बुला-बुला कर दिखाने लगा

Read more

गांधारी का अर्धसत्य: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

“मंझा सूंतने से क्या मतलब…” “मंझा किस काम का… निठल्लों का काम है पतंग उड़ाना… जब-तब मंझा उनके ही हाथ

Read more

लाश: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

“हो रे बाबा, ये पटकन।” बाबू भाई ने शांत भाव से दांत कुरेदते हुए फोन रखा। कुर्सी से उठ कर

Read more

500 की खाट: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

“कोई काम हो तो दीजिए…” बाबू भाई ने मरी आवाज में कहा। “क्या कर सकते हैं…” गुप्ताजी सीधे मुद्दे पर

Read more

तानसेन: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

अगले दिन भवानी लौटा। आज दत्तात्रय लॉज में रात बिताने नहीं आया है। उसने चुपचाप तानसेन उठाया। बाबू भाई के

Read more

पाश: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज : लेखक – विवेक अग्रवाल

अफसोस कि इतने जबरदस्त शायर को फिल्म इंडस्ट्री स्वीकार करने के लिए कतई तैयार नहीं। मुंबईया हिंदी फिल्म उद्योग के

Read more
Web Design BangladeshBangladesh Online Market