विश्व कप में भारत-पाक भिड़ंत पर सट्टे में धोनी की सेना आगे

  • मुंबई का सट्टाबाजार में भी भारत-पाक भिड़ंत
  • सट्टाबाजार में भारत है हॉट फेवरेट
  • बारिश से मैच न होने पर भी लगा सट्टा
  • विश्व कप जीत सकता है भारत

विवेक अग्रवाल

मुंबई, 14 जून 2019

भारत पाक के बीच पहली भिड़ंत विश्व कप क्रिकेट में 16 जून को होने जा रही है। एक तरफ जहां पूरे संसार में इस भिड़ंत पर क्रिकेट प्रेमियों की नजर रहेगी, वहीं देश का सट्टाबाजार भी इस जंग के लिए पूरी तरह तैयार दिख रहा है। बुकियों का कहना है कि क्रिकेट के इस महाकुंभ में भारत-पाक पर ढाई से तीन हजार करोड़ रुपए तक का सट्टा लगेगा।

एक बुकी के मुताबिक यह बात तय है कि इन दिनों पाक टीम काफी मजबूत दिखाई दे रही है। यदी वह हारना चाहेगी, तो ही उसे हराना किसी के बूते में है। उसके लगभग सभी खिलाड़ी अच्छे फॉर्म में हैं। पाक टीम का पुराना रिकॉर्ड दिखा रहा है कि वह अभी भी खासी मजबूत है। यह टीम विश्व की किसी भी टीम के खिलाफ अच्छा स्कोर खड़ा करने में सक्षम है। अंतिम वक्त पर यह पलड़ा पलटने में भी माहिर है।

भाव भारत-पाक के

सट्टाबाजार में इन दिनों भारत की जीत पर 45 पैसे का भाव चल रहा है। पाकिस्तान के जीतने पर 2.35 रुपए का भाव है।

बुकियों का मानना है कि भारत-पाक मैच में पहले जो भी टीम बैटिंग करेगी, उसे 330 रन से अधिक बनाने जरूरी होंगे, तभी सामने वाली टीम को परेशानी होगी। जो टीम इस आंकड़े के पार नहीं जा पाएगी, उसे हार का मुंह देखना पड़ सकता है।

बारिश में मैच धुला तो?

इस बात तो सट्टाबाजार ने भी गजब कर दिया है। लंदन की मशहूर बारिश में अगर मैच हो जाता है तो 25 पैसे का भाव है। शर्त यह है कि कम से कम 30 ओवर होने ही चाहिए। यदि बारिश के कारण मैच पूरा नहीं होता है 4 रुपए का भाव चल रहा है।

कप का भाव

कौन से देश इस विश्व कप में जीत के दावेदार हैं, और उनके क्या भाव चल रहे हैं, यह जानकारी आम हो चुकी है। सटोरियों और पंटरों के बीच इस पर जोरदार सट्टा लग रहा है।

देश – जीत का भाव

इंग्लैड – 2.35 रुपए

भारत – 2.60 रुपए

ऑस्ट्रेलिया – 3.70 रुपए

न्यूजीलैंड – 9.50 रुपए

वेस्टइंडीज – 13.50 रुपए

पाकिस्तान – 25 रुपए

दक्षिण अफ्रीका – 70 रुपए

श्रीलंका – 80 रुपए

बाकी सब 100 रुपए के ऊपर

कौन बनेगा सरताज!

बुकियों को उम्मीद है कि 45 मैच पूरे होने के बाद इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, भारत और न्यूजीलैंड के सेमी फाईनल में जा सकते हैं।

विश्व कप सट्टे का अर्थशास्त्र

  • हर मैच पर 1,500 से 2,000 करोड़ रुपए का सट्टा लग रहा है।
  • सेमी फाइनल पर 5,000 करोड़ रुपए लगने की उम्मीद होगी।
  • फाइनल मैच पर 10,000 हजार करोड़ से ऊपर का आंकड़ा जा सकता है।
  • कुल 45 मैच पर 90,000 करोड़ के दांव लगेंगे।
  • दो सेमीफाइनल और एक फाईनल पर 20,000 करोड़ रुपए के दांव लगने की उम्मीद है।
  • पूरे विश्व कप पर 1.10 लाख करोड़ तक की रकम दांव पर लगने की आस बुकियों ने जताई है।

वलण याने लेन-देन

49 मैच महीने भर तक चलने वाले हैं। ऐसे में सट्टाबाजार में हर सोमवार को वलण याने हार-जीत की रकम का लेन-देन होता है। एक बुकी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि चूंकि इस बार अधिकांश सट्टा वेबसीट और एप्स के जरिए ही हो रहा है, ऐसे में हार-जीत के बारे में मैच खत्म के महज पांच मिनट में ही मोबाईल पर सेटलमेंट या हार-जीत की रकम का आंकड़ा दिखने लगता है।

बुकियों क पक्की कमाई

बुकियों ने जुए-सट्टे के नशे में घिरे पंटरों को ठगने और कमाई का पक्का तरीका ईजाद कर लिया है। अब वे हर पंटर को वेबसाईट या एप पर खेलने में रकम डालने या जीत की रकम का दो फीसदी हिस्सा काट लेते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि यदि कोई एक लाख रुपए खेलने के उनके पोर्टल या एप पर रकम भरवाता है तो उसे 98 हजार की रकम ही जुआ केलने के लिए मिलती है। यदि कोई पंटर एक लाख रुपए जीत जाता है तो उसकी दो फीसदी रकम काट कर 98 हजार रुपए ही खाते में दिखते हैं।

एक बुकी के मुताबिक यह तरीका पहले नहीं था। इस तरह दो फीसदी रकम पहले नहीं काटी जाती थी। अब नया तरीका चल रहा है। फोन पर जो काम होता है, उसमें आज भी रकम नहीं काटी जीती है।

इतना ही नहीं एप या पोर्टल पर सट्टा लगाने के लिए कम से कम एक हजार रुपए जमा करने होते हैं। इसके ऊपर की कितनी भी रकम भर कर सट्टा खेला जा सकता है।

यह जानकारी मिली है कि सट्टा खेलते समय पीछे के दो शून्य कम लगाने होते हैं। यदि कोई पंटर 100 रुपए की रकम दांव पर लगाता है तो उसे एक रुपया ही वहां लिखना है।

विदेशी जुआ साईटों के देशी अवतार

बेटफेयर जैसी मशहूर विदेशी जुआ वेबसाईटों के एक्सटेंशन बना कर भारतीय बुकियों ने अपने-अपने पोर्टल और एप तैयार करवाए हैं। इन अलग-अलग वेबसाईट और एप्स का संचालन भारतीय बुकियों द्वारा हो रहा है लेकिन पुलिस व खुफिया एजंसियों से बचने के लिए सबने सर्वर चीन, हांगकांग, सिंगापुर जैसे देशों में स्थापित किए हैं।

पता चला है कि पुलिस इन वेबसाईट्स और एप्स की तलाश नहीं कर पा रही है। मोबाईल पर पंटर अकेले में ही खेलते रहते हैं, जिससे उनके जुआ खेलने के बारे में जानकारी नहीं मिल पाती है।

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market