क्या है कोरोना वाईरस

कोरोना वाईरस का दहशत भारत सहित विश्व के सभी देशों में तेजी से फैल रहा है। कोरोना रोग एक प्रकार का विषाणु जनित रोग है।

कोरोना नाम कैसे पड़ा

  • माइक्रोस्कोप से देखने के बाद कोरोना का नाम रखा गया है। कोरोना शब्द का अर्थ मुकुट के जैसा होता है। वाईरस को देखने से यह मुकुट जैसा दिखता है।
  • इस वाईरस को WHO ने COVID19 नाम दिया, जिसका मतलब ‘कोरोना वाईरस डिसीस’ है।

कहां से आया कोरोना

  • दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर के सीफूड मार्केट से उत्पन्न हुआ माना जाता है।
  • कोरोना वाईरस एक ‘जूनोटिक वाईरस’ है, जो जानवरों से मानव में आया है। इस वाईरस को जिंदा रहने के लिए एक ‘होस्ट’ की जरूरत होती है, तभी वह सरवाइव कर सकता है।
  • अभी तक इस बात की पुष्टि नही हो पाई है कि इस वाईरस का ट्रांसमिशन ह्यूमन से एनिमल में होता है या नहीं।
  • यह वाईरस मुख्यतः चीन में फैला है लेकिन दूसरे देशों में भी इसकी पुष्टि हो चुकी है, जिनमें थाईलैंड, वियतनाम, सिंगापुर, कोरिया, ताइवान, नेपाल, फ्रांस और अमेरिका शामिल हैं।
  • चीन के बाद सबसे ज्यादा मामले हांगकांग और इंडोनीशिया में मामले सामने आए हैं।
  • अब भारत में भी इसके कई मामलों की पुष्टि हो चुकी है।

क्या है कोरोना

  • कोरोना कई वाईरस का समूह है, जो RNA वाईरस हैं। इसकी पहचान रियल टाइम पोलिमरेज चैन रिएक्शन (RTPCR) से होती है।
  • कोरोना वाईरस से बचने के लिए अभी कोई दवा नहीं है।

लक्षण

इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को बुखार, सिरदर्द, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, सांस फूलना, डयरिया, निमोनिया,किडनी फेल इत्यादि के लक्षण देखे जा सकते है। इसके कारण मरीजों की मौत हो रही है।

क्या करें

  • WHO के मुताबिक कोरोना वाईरस से बचने के लिए, सर्दी, खांसी, बुखार और कोरोना से मिलते-जुलते लक्षण से संक्रमित लोगों से नजदीकी संपर्क से बचना चाहिए।
  • वाईरस का शरीर मे प्रवेश केवल मुँह, आंख और नाक से हो सकता है, जहां से पहले गले, फिर फेफड़ो को प्रभावित  कर सकता है।
  • एक बाहरी वाईरस शरीर में आता है, तो जरूरी नही कि आपके शरीर के अंदर प्रवेश कर जाए।
  • जरूरत है कि शरीर से अंदर प्रवेश करने से वाईरस रोकना होगा।
  • स्वयं में ऐसे लक्षण हों तो खुद को अलग रखें।
  • सर्दी-खांसी के समय टिश्यू पेपर उपयोग में लाएं।
  • यात्रा न करें।
  • सर्दी व खांसी के बाद, जब आप किसी संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हों, खाने से पहले, खाना बनाने व बनाने के बाद, टॉयलेट उपयोग के बाद, घर मे पालतू पशुओं को देखभाल के बाद बार-बार हाथ धोते रहें।
  • हाथ अपने मुँह और नाक से दूर रखें।
  • सेनिटाइजर का प्रयोग करें या हाथ प्रत्येक घंटे में धोएं।
  • इसके लिए सेल्फ क्वारंटाइन करें।
  • सोशल डिस्टेंसिंग भी बेहद अहम उपाय है।
  • ध्यान रहे इस वाईरस का संक्रमण हवा से नहीं केवल संपर्क से होता है।
  • सार्वजनिक यातायात वाले या अधिक भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचें।
  • ये वाईरस केवल उनके लिए खतरनाक है, जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनीटी) कमजोर है। बुजुर्ग और बच्चों के लिए यह खतरनाक साबित हो सकता है।
  • किसी भी प्रकार की भ्रांतियों और अफवाहों से बचें। इसके दुष्प्रचार और फर्जी खबरों से बचें।

Be Ready to Fight COVID -19

सावधान रहें, सुरक्षित रहें।

बालोद पुलिस, थाना गुंडरदेही द्वारा जारी

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market