किताब : दत्तात्रय लॉज: बॉलीवुड के बरबाद सपनों की बारात

दत्तात्रय लॉज: बॉलीवुड के बरबाद सपनों की बारातलेखक – विवेक अग्रवालपृष्ठ – 184 / अध्याय – 20 ‘दत्तात्रय लॉज’ बॉलीवुड

Read more

किताब : अदृश्य

किताब : अदृश्यलेखक – विवेक अग्रवाल – अलका अग्रवाल सिगतियापृष्ठ – 200 / अध्याय – 18 एक फिल्म का साहित्यिक

Read more

किताब : आंसू: वासना का नरक भोगता बचपन

किताब : आंसू: वासना का नरक भोगता बचपनलेखक – विवेक अग्रवालपृष्ठ – 195 / अध्याय – 24 बाल यौन उत्पीड़न

Read more

राक्षस: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

वीरान हवेली की दो महीने में शूटिंग पूरी हो गई। अगले छह महीनों में एडिटिंग भी पूरी हो गई। फिल्म

Read more

डंक: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

हाईवे पर पहुंचने के बाद संजय ने मुस्कुरा कर आगे बैठे टोनी पर नजर डाली, “क्या हाल है रौनक भाई…

Read more

रात का राजा: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

रज्जू भैया से आज फिर राजा भाई की बातें चल रही है। मुद्दा है वही कि कौन चुनाव जीतेगा –

Read more

लॉज की यारी…: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

देव कुमार अब डायरेक्टर हो गया। रहा वही मीठा और चीठा। सारे जहान को सेट पर बुला-बुला कर दिखाने लगा

Read more

गांधारी का अर्धसत्य: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

“मंझा सूंतने से क्या मतलब…” “मंझा किस काम का… निठल्लों का काम है पतंग उड़ाना… जब-तब मंझा उनके ही हाथ

Read more

लाश: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

“हो रे बाबा, ये पटकन।” बाबू भाई ने शांत भाव से दांत कुरेदते हुए फोन रखा। कुर्सी से उठ कर

Read more

500 की खाट: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

“कोई काम हो तो दीजिए…” बाबू भाई ने मरी आवाज में कहा। “क्या कर सकते हैं…” गुप्ताजी सीधे मुद्दे पर

Read more

तानसेन: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज: लेखक – विवेक अग्रवाल

अगले दिन भवानी लौटा। आज दत्तात्रय लॉज में रात बिताने नहीं आया है। उसने चुपचाप तानसेन उठाया। बाबू भाई के

Read more

पाश: उपन्यास अंश… दत्तात्रय लॉज : लेखक – विवेक अग्रवाल

अफसोस कि इतने जबरदस्त शायर को फिल्म इंडस्ट्री स्वीकार करने के लिए कतई तैयार नहीं। मुंबईया हिंदी फिल्म उद्योग के

Read more

‘अदृश्य’ फिल्म का साहित्य रूप में आना, “अब नई गीता लिखें, जो कहे कि कहानी अमर होती है”

विशेष संवाददाता मुंबई, 29 जुलाई 2018। महानगर में आज साहित्य व फिल्मोद्योग में अनूठा प्रयोग पूर्ण हुआ, जिसका नाम है,

Read more

अदृश्य: एक फिल्म का साहित्य में बदल जाना

‘अदृश्य’ फिल्म के पटकथा-संवाद लेखक विवेक अग्रवाल एवं अलका अग्रवाल सिग्तिया ने एक अनूठा प्रयोग साहित्य तथा फिल्म संसार में

Read more

बॉलीवुड अभिनेत्री शरीर बेच रही थी पैसों की खातिर

मुंबई के हिंदी फिल्मोद्योग में वासना से जुड़े मामलों की नित नई कहानियां सामने आती ही रहती हैं। उसी कड़ी

Read more
Web Design BangladeshBangladesh Online Market