अब हिंदी और उर्दू को लड़ाने की साजिश

नीचे दी पोस्ट का लेखक भाषा के नाम पर भारत के जनमानस को बांटने की घृणित एवं असफल कोशिश करता दिखता है।
वह खुद ही सबसे अंग्रेजी का शब्द “लॉकडाऊन” इस्तेमाल करता है, “कोशिश” शब्द का भी प्रयोग वह खुद ही करता है।
आप खुद समझ सकते हैं कि ये कैसे लोग हैं जो भारत में भाषा के आधार पर अब खाईयां पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।
ऐसे निर्लज्ज प्रयासों का भरपूर विरोध होना चाहिए।
जितने शब्दों का प्रयोग यह पोस्ट, हमसे न करने के लिए कह रही है, उनके बिना हिंदी पूरी नहीं होती।
हिंदी तभी हिंदी है, जब उसमें विश्व की सभी भाषाओं का संतुलन एवं मेल हो। हिंदी से उर्दू, अरबी, फारसी हटा दें, तो हिंदी मर जाएगी।
तो जनाब, सब तमाम शब्द इस्तेमाल करते रहें। इस फर्जी पोस्ट पर ध्यान न दें।
हां, इस पोस्ट में हिंदी और उर्दू के जो समानार्थी दिए हैं, वे जरूर पढ़ें, ताकी इस बहाने आपका शब्दकोष बढ़े।

  • संपादक

फेक न्यूज जो हमें मिली –

एक विनम्र निवेदन; लॉकडाउन के समय घर में रहते हुए हिन्दी बोलने का प्रयास करके देखिए; अच्छा लगेगा…

ये वो उर्दू के शब्द हैं, जो आप और हम प्रतिदिन प्रयोग करते हैं। इन शब्दों को त्याग कर एक कोशिश मातृभाषा के शब्दों का प्रयोग करने की…

उर्दू – हिंदी
ईमानदार – निष्ठावान
इंतजार – प्रतीक्षा
इत्तेफाक – संयोग
सिर्फ – केवल, मात्र
शहीद – बलिदान
यकीन – विश्वास, भरोसा
इस्तकबाल – स्वागत
इस्तेमाल – उपयोग, प्रयोग
किताब – पुस्तक
मुल्क – देश
कर्ज़ – ऋण
तारीफ़ – प्रशंसा
तारीख – दिनांक, तिथि
इल्ज़ाम – आरोप
गुनाह – अपराध
शुक्रिया – धन्यवाद,आभार
सलाम – नमस्कार, प्रणाम
मशहूर – प्रसिद्ध
अगर – यदि
ऐतराज़ – आपत्ति
सियासत – राजनीति
इंतकाम – प्रतिशोध
इज्ज़त – मान, प्रतिष्ठा
इलाका – क्षेत्र
एहसान – आभार, उपकार
अहसानफरामोश – कृतघ्न
मसला – समस्या
इश्तेहार – विज्ञापन
इम्तेहान – परीक्षा
कुबूल – स्वीकार
मजबूर – विवश
मंजूरी – स्वीकृति
इंतकाल – मृत्यु, निधन
बेइज्जती – तिरस्कार
दस्तखत – हस्ताक्षर
हैरानी – आश्चर्य
कोशिश – प्रयास, चेष्टा
किस्मत – भाग्य
फै़सला – निर्णय
हक – अधिकार
मुमकिन – संभव
फर्ज़ – कर्तव्य
उम्र – आयु
साल – वर्ष
शर्म – लज्जा
सवाल – प्रश्न
जवाब – उत्तर
जिम्मेदार – उत्तरदायी
फतह – विजय
धोखा – छल
काबिल – योग्य
करीब – समीप, निकट
जिंदगी – जीवन
हकीकत – सत्य
झूठ – मिथ्या,असत्य
जल्दी – शीघ्र
इनाम – पुरस्कार
तोहफ़ा – उपहार
इलाज – उपचार
हुक्म – आदेश
शक – संदेह
ख्वाब – स्वप्न
तब्दील – परिवर्तित
कसूर – दोष
बेकसूर – निर्दोष
कामयाब – सफल
गुलाम – दास
जन्नत – स्वर्ग
जहन्नुम – नर्क
खौ़फ – डर
जश्न – उत्सव
मुबारक – बधाई,शुभेच्छा
लिहाजा़ – इसलिए
निकाह – विवाह/शादि
आशिक – प्रेमी
माशुका – प्रेमिका
हकीम – वैध
नवाब – राजसाहब
रुह – आत्मा
खु़दकुशी – आत्महत्या
इज़हार – प्रस्ताव
बादशाह – राजा/महाराजा
ख़्वाहिश – महत्वाकांक्षा
जिस्म – शरीर/अंग
हैवान – दैत्य/असुर
रहम – दया
बेरहम – बेदर्द/दर्दनाक
खा़रिज – रद्द
इस्तीफ़ा – त्यागपत्र
रोशनी – प्रकाश
मसीहा – देवदूत
पाक – पवित्र
क़त्ल – हत्या
कातिल – हत्यारा
मुहैया – उपलब्ध
फ़ीसदी – प्रतिशत
कायल – प्रशंसक
मुरीद – भक्त
कीमत – मूल्य (मुद्रा)
वक्त – समय
सुकून – शाँति
आराम – विश्राम
मशरूफ़ – व्यस्त
हसीन – सुंदर
कुदरत – प्रकृति
करिश्मा – चमत्कार
इजाद – आविष्कार
ज़रूरत – आवश्यक्ता
ज़रूर – अवश्य
बेहद – असीम
तहत – अनुसार

हिन्दी हमारी राजभाषा एवं मातृभाषा हैं। आइए अपनी माँ का सम्मान करे ।

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market