Rave Party Mafia 02: डांस+डोप+डीजे+सेक्स = रेव पार्टी

रेव पार्टी याने हंगामा, मौज-मस्ती, लड़कियां, नशा, पैसा, ताकत। मुंबई में रेव पार्टी सभ्य समाज के कोढ़ सरीखा है। एक रेव पार्टी ने तो सभ्यजनों के खेल क्रिकेट को भी कलंकित कर दिया। आईपीएल को इसके बाद से ही ‘इंडियन पाप’ लीग भी कहा जाने लगा। होटल ओकवुड प्रीमियर के रूफटॉप रेस्तोरां अजोक के बारे में मशहूर है कि यहां बड़ी-बड़ी फिल्मी हस्तियों के हर रोज नकाब और कपड़े दोनों उतरते हैं। मस्ती माफिया रेव पार्टियां आयोजित करता है। पूरे देश में मस्ती माफिया विस्तार पा चुका है। मुंबई, दिल्ली, बंगलुरू, कोलकाता, चेन्नई ही नहीं इंदौर, रायपुर, भोपाल, लखनऊ, पटना, रांची जैसे छोटे शहरों में भी आम चलन में आ चुकी मस्ती माफिया की रेव पार्टियों के सनसनीखेज संसार की सैर पर चलें विवेक अग्रवाल के साथ।

स्पॉट फिक्सिंग, मारपीट, गालीगलौच, नोकझोंक और छेड़खानी जैसे आरापों के कारण पहले ही संकट का सामना कर रहे इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) पर एक रात नया विवाद छा गया। इसके पीछे देश में पसरा मस्ती माफिया था।

मुंबई के जुहू इलाके के होटल ओकवुड प्रीमियर की छत पर चल रही हंगामेदार दावत में अचानक पुलिस के 50 अधिकारी जा धमके और संगीत बंद करवा दिया।

जब तक कोई कुछ समझता, एक वरिष्ठ अधिकारी ने हवा में जुमला उछाला कि यहां पार्टी में शामिल सारे लोग पुलिस हिरासत में हैं। पुलिस अधिकारी ने ऐलान किया कि सबके रक्त-मूत्र परीक्षण के बाद ही घर जाने देंगे।

यह सुनते ही वहां मौजूद तमाम लोगों का नशा हिरन हो गया। अचानक कुछ हाथ सक्रिय हुए। फर्श पर छोटी-छोटी पुड़िया गिरने लगीं। यह मस्ती माफिया का दिया ड्रग्स था।

पुलिस की नजर में वे हाथ नहीं आए लेकिन बाद में वे फर्श पर पड़ी पुड़िया कोकीन, एक्सेटेसी, एमडीएमए जैसे नशे निकले। चरस की पुड़िया भी मिलीं।

यह छापामारी करने वाले मुंबई पुलिस के जांबाज पुलिस अधिकारी विश्वास नागरे पाटिल हैं। उन दिनों वे पश्चिमी जोन मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त पद पर थे। आपको जानकर ताज्जुब नहीं होगा कि ये वही पुलिस अधिकारी हैं, जिन्होंने होटल ताज में आतंकियों से आमना-सामना किया था।

उन्होंने कहा कि इसके बारे में एक मुखबिर से जानकारी मिली थी। उन्होंने कुछ खबरी रेव पार्टी में भेजे। उन्होंने कहा, “हमें जब पता चला कि यहां नशा बिकने वाला है, हमने फर्जी पार्टी-गोअर भेजा, उसने देखा कि नशा बेचा और इस्तेमाल हो रहा है, तभी हमने छापामारी की।”

बता दें कि यहां रेव पार्टी का आयोजन मस्ती माफिया ने किया था। उनका काम ही लोगों को मस्ती के नाम पर मोटी रकम कमाना होता है।

मस्ती माफिया कमाई के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। वे कमाई के लिए गर्म गोश्त की गोरी मंडी लगाते हैं। वे मोटी मलाई मारने के लिए नशे का पूरा बाजार सजाते हैं। वे नोट की बारिश करवाने के लिए शराब की नदियां बहाते हैं। यह कहना गलत होगा कि सब कुछ कानूनी होता है। मस्ती माफिया का सारा कामकाज अवैध ही होता है।

पुलिस ने यहां से 150 ग्राम कोकीन और 100 ग्राम से अधिक अन्य नशे जब्त किए।

इस सिलसिले में सौ लोगों को हिरासत में लिया। उनमें मॉडल, डिजाइनर और दो आईपीएल खिलाड़ी हैं। रेव पार्टी से कुल 58 पुरुषों और 38 महिलाओं को हिरासत में आए। इनमें आईपीएल के दो खिलाड़ी सहित विदेशी लड़कियां थीं।

अधिकारियों ने कहा कि हिरासत में लिए सभी लोगों की चिकित्सा जांच करवाई है। उनमें नशा सेवन की पुष्टि होने पर आगे कार्रवाई करेंगे।

इस दावत में शामिल कुल 6 आईपीएल खिलाड़ियों में से दो की हिरासत पुलिस ने ली। उन्हें अस्पताल भेजा।  उनके रक्त-मूत्र के नमूने लेकर देर सुबह पुलिस ने छोड़ा। दोनों खिलाड़ी पुणे वॉरीयर्स के लिए खेलते हैं। एक हैं राहुल शर्मा।

राहुल ने एसएमएस से मीडिया को बताया कि वे जन्मदिन पार्टी में शामिल होने गए थे। यह बात और है पुलिस अधिकारी खंडन करते हैं कि वहां कोई जन्मदिन पार्टी थी।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी व्यान पर्नेल भी पुलिस गिरफ्त में आए। व्यान ने नशा लेने से इंकार करते हुए कहा कि वे जब होटल से बाहर आ रहे थे, तो गेट पर उन्हें पुलिस ने रोक लिया था।

फिल्म अभिनेता अपूर्व अग्निहोत्री और उनकी पत्नी भी यहां पकड़े गए। रेव पार्टी से डीजे डिजाइनर हिप्पीइस, बॉलीवुड अभिनेत्री रिया सेन के पुरुष मित्र विशेष हांडा भी पकड़े गए।

रेव पार्टी आयोजक विशेष हांडा और अमृत सागर को जुहू पुलिस ने अँधेरी कोर्ट में पेश किया, जहाँ अमृत सागर को जमानत मिल गई जबकि विशेष हांडा को 25 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया था।

मस्ती माफिया की पूरी मस्ती एक पुलिस अधिकारी की सजग कार्रवाई के चलते उतर गई।

रेव में अपूर्व-शिल्पा अग्निहोत्री

रेव पार्टी में कुछ चीयरलीडर्स के साथ बॉलीवुड के मशहूर एक्टर भी थे। ये हैं, फिल्म ‘परदेस’ में शाहरुख के साथ काम कर चुके अपूर्व अग्निहोत्री और उनकी पत्नी शिल्पा भी।

अपूर्व कहते हैं कि वे अपनी पत्नी के साथ पार्टी में गए थे, वो रेव पार्टी नहीं थी, बल्कि सामान्य पार्टी थी। अपूर्व का आरोप है कि सेलीब्रिटी होने के कारण उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। उनका कहना रहा कि वे तो पार्टी में शामिल भी नहीं हुए। उन्हें नाहक बदनाम किया जा रहा है।

अभिनेत्री शिल्पा कहती हैं कि पुलिस वाले जिस तरह बिना लेबल लगाए रक्त व मूत्र के नमूने रखे जा रहे थे, उनसे यह साफ है कि किसी के नाम पर कोई भी नमूना रखा जा सकता है। उसके कारण किसी को भी पुलिस पकड़ सकती है। इसके चलते हमें बदनामी का डर सता रहा है।

शिल्पा के मुताबिक पुलिस ने उनका रक्त का नमूना लिया तो आधे घंटे बाद तक इस पर नाम का लेबल नहीं लगाया। जब इस बारे में अधिकारियों से बात की तो उन्होंने बुरा व्यवहार किया।

शिल्पा ने कहा, ‘मैं डरी हुई हूं क्योंकि ब्लड सैंपल्स पर ठीक से लेबलिंग नहीं की गई है। मैं सेलिब्रिटी हूं इसलिए परेशान हूं। मुझे बेवजह बदनामी झेलनी पड़ सकती है। मैं नहीं जानती थीं कि इस पार्टी में प्रतिबंधित ड्रग्स परोसा जा रहा है। कैसे पता लगे कि कहां क्या होने वाला है? क्या इस वजह से हम पार्टी करना और किसी से मिलना-जुलना छोड़ दें?’

राहुल का लकवा

राहुल शर्मा का नाम आज भले आईपीएल को कलंकित करने के लिए लोग लेते हों, लेकिन उनका करियर एक खिलाड़ी की फिल्मी कहानी सरीखा है।

रेव पार्टी में पकड़े जाने के बाद उन्हें लगा कि कड़े सघर्ष से उन्होंने हासिल किया है, वे सब कुछ खोने वाले हैं।

6.4 फुट ऊंचे इस स्पिनर की कहानी बड़ी मार्मिक और साहस के जज्बे से भरी है।

हर क्रिकेटर की तरह उनका भी सपना टीम इंडिया में खेलने का था लेकिन आईपीएल-3 के पहले एक सुबह जब सोकर उठे तो पाया कि उन्हें लकवा हो चुका है। उनके चेहरे की मांसपेशियों ने काम करना बंद कर दिया है। शरीर के अन्य हिस्सों पर भी इसका प्रभाव पड़ सकता है।

यह तय था कि राहुल का करियर बनने के पहले ही खत्म होने वाला है। वे आंख नहीं खोल पा रहे थे। मुंह लटक चुका था। होंठ नहीं हिला पा रहे थे। साफ दिखना बंद हो गया। वे आज भी इसके कारण एक आंख नहीं खोल पाते हैं।

उन्होंने हिम्मत से काम लिया। रणजी में खेलने की संभावनाएं धूमिल न होने दीं। घंटों चेहरे की कसरत और ईलाज ने इस स्थिति में पहुंचाया कि फिर मैदान में उतर पाए। उन्हें पंजाब से रणजी में खेलने का मौका मिला तो पूरी टीम ने भरपूर साथ दिया।

एक इंटरव्यू में राहुल ने कहा कहा कि युवराज ने उनका बहुत हौसला बढ़ाया। कोच ने उन्हें बॉलिंग ऐक्शन में खासी मदद की। अच्छे प्रदर्शन के कारण ही राहुल ने आईपीएल की पुणे वॉरियर्स टीम में जगह बनाई।

मुंबई इंडियन के खिलाफ हारे मैच में भी सचिन से वाहवाही और मैन ऑफ द मैच दबोचने में सफलता हासिल की। उन्होंने 20-20 फॉर्मेट में 4 ओवर में मात्र 7 रन देकर 2 विकेट लिए हैं।

राहुल के मुताबिक उनकी टीम पुणे मैच खत्म होने पर उसे सोमवार सुबह घर लौटना था। पुणे से फ्लाइट न थी, सो मुंबई से अमृतसर जाना था। इस दौरान दक्षिण अफ्रिका के वेन पॉर्नेल का फोन आया, जो उसका करीबी दोस्त है।

पॉर्नेल ने बताया कि उसकी महिला मित्र की बर्थ-डे पार्टी है, वहां चलेंगे। दोनों शाम 7 बजे होटल ओकवुड पहुंचें। यहां पॉर्नेल ने कुछ खाने के साथ कोल्ड्रिंक मंगाया था।

राहुल का दावा है कि वे निर्दोष हैं। यदि जांच में वे दोषी निकले तो क्रिकेट खेलना छोड़ देंगे। वे सिर्फ बर्थडे पार्टी में गए थे। उन्होंने बीयर तक नहीं पी, ड्रग्स लेना तो दूर है।

राहुल ने कहा कि मेडिकल रिपोर्ट से साफ हो जाएगा कि वे निर्दोष हैं।

राहुल ने कहा कि मैं पुणे से मुंबई आया और मेरे बॉस ने बताया कि एक बर्थडे पार्टी का बुलावा है, तो मैं आ गया। स्वीमिंग पूल के किनारे मैंने एक फ्रेश लाइम सोडा लिया, तभी पुलिस आ गई। उन्होंने रूटीन चेकिंग के नाम पर मुझे किनारे कर लिया। उन्होंने यूरीन और ब्लड सैम्पल मांगे तो हामी भर दी क्योंकि मैंने कुछ गलत किया ही नहीं था।

वे कहते हैं कि परिवार और टीम का मुझे पूरा सहयोग है। सबको पता है कि मैंने कुछ नहीं किया। मैं फेसबुक पर हूं ही नहीं तो फेसबुक से मुझे इनविटेशन का सवाल ही नहीं उठता। मुझे यह भी नहीं पता कि किसकी बर्थडे पार्टी थी। न मुझे यह पता है कि रेव पार्टी होती क्या है, मैं वहां 15 मिनट पहले पहुंचा था।

राहुल के मुताबिक वे बातचीत कर ही रहे थे कि पुलिस आ गई। उन्होंने सारे दरवाजे बंद कर दिए। पुलिस ने किसी को हिलने न दिया। हमें गड़ब़ड़ी लगी, जिससे उसने पुलिस को अपना परिचय दिया। वे बोले कि आप हमें सहयोग करें। इसके बाद सभी जेजे अस्पताल गए, जहां पहले अल्कोमीटर से उनकी व पर्नेल की जांच हुई, फिर रक्त और मूत्र के नमूने लिए।

राहुल के मुताबिक वे शाकाहारी है। शराब को हाथ तक नहीं लगाते। उन्हें नहीं पता कि रेव पार्टी क्या है। वे बर्थ-डे पार्टी में आए थे। वे निर्दोष हैं। आईपीएल विवादों पर राहुल ने कहा कि आईपीएल बंद नहीं होना चाहिए। इस खेल में करोड़ों रुपए लगते हैं, जिससे सबका ध्यान उसकी तरफ खिंचता है। आईपीएल में कुछ गलत नहीं हो रहा है।

राहुल के पिता प्रदीप कुमार पंजाब पुलिस में इंस्पेक्टर हैं, फिलहाल जालंधर पीसीआर में तैनात हैं। उनका कहना है कि रात टीवी पर राहुल की खबर देखी तो हैरान रह गए। राहुल ने अंडा नहीं खाया, नशा दूर की बात है। वह खिलाड़ी है… और खिलाड़ी का नशे से वास्ता नहीं होता।

जारी…

रेव माफिया 01: नशे और वासना का कॉकटेल

रेव माफिया 02: डांस+डोप+डीजे+सेक्स = रेव पार्टी

रेव माफिया 03: इंटरनेट पर नशा निमंत्रण

रेव माफिया 04: कोडवर्ड में रेव

रेव माफिया 05: द व्हाईट पार्टी

रेव माफिया 06: रेव में राड़ा

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh Online Market